Bas Apki Khushi Ki Khwahish Ki

ना दुआ मांगी ना कोई गुजारिश की,

ना कोई फरियाद ना कोई नुमाइश कि.

जब भी झुका सर “खुदा” के आगे

हमने ए जान बस “आपकी” खुशी की ख्वाहिश थी .

Leave a Reply

Your email address will not be published.