रहने दो कि अब तुम भी मुझे पढ़ ना सकोगे,

बरसात में कागज की तरह भीग गई हूं

Tagged:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *