हसरत है सिर्फ तुम्हें पाने की,

और कोई ख्वाहिश नहीं इस दीवाने की.

शिकवा मुझे तुमसे नहीं खुदा से है,

क्या जरूरत थी तुम्हें इतना खूबसूरत बनाने की.

Tagged:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *