वो बिछड के हमसे ये दूरियां कर गइ,

न जाने क्यों ये मोहब्ब्त अधूरी कर गई,

अब हमे तन्हाइयां चुभती है तो क्या हुआ,

कम से कम उसकी सारी तम्ननाएं तो पूरी हो गइ|

Tagged:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *